हाथ जरूरी है किसी अपने का | गोल्डन शायरी

golden happy shayari

हाथ जरूरी है किसी अपने का..
बिना पतवार जैसे की.. कश्ती नहीं होती
अगर डोर और हवा न होती..
तो पतंग की अपनी कोई.. हस्ती नहीं होती

Haath Jaroori Hai Kisi Apne Ka
Bina Patwaar Jaise Ki.. Kashti Nahi Hoti
Agar Dor Aur Hawa Na Hoti..
To Patang Ki Apni Koi.. Hasti Nahi Hoti

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *