March 2021

Beti Par Shayari | Mujhe Garv Main Beti Hoon | मुझे गर्व मैं बेटी हूँ |

Beti Par Shayari

मुझे गर्व मैं बेटी हूँ..
मम्मी पापा की शान हूँ
शिखर पर पहुंचना मुझे है आता..
बुलंदी की पहचान हूँ
मुझे गर्व मैं बेटी हूँ..
मम्मी पापा की शान हूँ

अग्रसर रहती हूँ मंजिल के लिए..
सपनों पर खरी उतरती हूँ

Read More…

Garibi Shayari | Mitti Ki Diwaar Aur Baarish Ki Bochhaar | मिट्टी की दीवार और बारिश की बौछार

Garibi Shayari_Mitti Ki Diwaar Aur Baarish Ki Bochhaar

निहारता रहा मैं उसे..
जब मैंने उस बदनसीब को देखा
मिट्टी की दीवार और बारिश की बौछार..
ये सोचा मैंने जब उस गरीब को देखा

घर में छप्पर और साथ में..
पानी के गलियारे होंगे

Read More…